Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Nov 7, 2015 in Frustration Poems, Love Poems | 0 comments

क्या तुम न आओगे – टी एन राज

क्या तुम न आओगे – टी एन राज

Introduction: See more

Here is a unique narrative of missing wife! Rajiv Krishna Saxena

लो मेरी उम्र भी सठिया गई, क्या तुम न आओगे
मेरे बालों में चांदी आ गई, क्या तुम न आओगे

नज़र में मोतिया उतरा, हुआ हूं कान से बहरा
तुम्हारी ही जवानी खा गई, क्या तुम न आओगे

तुम्हारे मायके से आने वाली राह तक–तक कर
मेरी तो आंख भी पथरा गई, क्या तुम न आओगे

न बेलन ही बरसता है, न अब चिमटा खड़कता है
रसोई में उदासी छा गई, क्या तुम न आओगे

मेरी सारी कमाई लुट गई, ढाबों में खा खा कर
लो अब फ़ाकों की नौबत आ गई, क्या तुम न आओगे

तुम्हारा दामने–उम्मीद बच्चों से भरा मैंने
मगर मेरी कली मुर्झा गई, क्या तुम न आओगे

बड़ी अम्मा से दिल की बेकली अपनी बयां कर के
मेरी आवाज़ भी भर्रा गई, क्या तुम न आओगे

~ टी एन राज

 
Classic View Home

633 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *