Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Dec 2, 2015 in Frustration Poems, Life And Time Poems, Nostalgia Poems | 0 comments

सूना घर – दुष्यंत कुमार

सूना घर – दुष्यंत कुमार

Introduction: See more

An empty house… pleasant memories of the now-gone home-maker. Memories of laughter and the jingling of bangles… how does one come to terms with this kind of emptiness? Rajiv Krishna Saxena

सूने घर में किस तरह सहेजूँ मन को।

पहले तो लगा कि अब आईं तुम, आकर
अब हँसी की लहरें काँपी दीवारों पर
खिड़कियाँ खुलीं अब लिये किसी आनन को।

पर कोई आया गया न कोई बोला
खुद मैंने ही घर का दरवाजा खोला
आदतवश आवाजें दीं सूनेपन को।

फिर घर की खामोशी भर आई मन में
चूड़ियाँ खनकती नहीं कहीं आँगन में
उच्छ्वास छोड़कर ताका शून्य गगन को।

पूरा घर अँधियारा, गुमसुम साए हैं
कमरे के कोने पास खिसक आए हैं
सूने घर में किस तरह सहेजूँ मन को।

∼ दुष्यंत कुमार

 
Classic View Home

612 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *