Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Oct 4, 2016 in Contemplation Poems, Frustration Poems | 0 comments

तब रोक न पाया मैं आँसू – हरिवंश राय बच्चन

तब रोक न पाया मैं आँसू – हरिवंश राय बच्चन

Introduction: See more

When life-long delusions end and we suddenly discover the truth, a heart-break invariably follows. So beautifully expressed in this poem of Harivansh Rai Bachchan! Rajiv Krishna Saxena

जिसके पीछे पागल हो कर
मैं दौड़ा अपने जीवन भर,
जब मृगजल में परिवर्तित हो, मुझ पर मेरा अरमान हँसा!
तब रोक न पाया मैं आँसू!

जिसमें अपने प्राणों को भर
कर देना चाहा अजर–अमर,
जब विस्मृति के पीछे छिपकर, मुझ पर वह मेरा गान हँसा!
तब रोक न पाया मैं आँसू!

मेरे पूजन आराधन को,
मेरे संपूर्ण समर्पण को,
जब मेरी कमज़ोरी कहकर, मुझ पर मेरा पाषाण हँसा!
तब रोक न पाया मैं आँसू!

~ हरिवंश राय बच्चन

 
Classic View Home

3,162 total views, 5 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *