Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Sep 8, 2015 in Bal Kavita, Shabda Chitra Poems | 0 comments

आया वसंत – सोहनलाल द्विवेदी

आया वसंत – सोहनलाल द्विवेदी

[Here is a simple poem on spring for children. The scenery described comprising the mustard fields and flowering of mango trees is something that many urban children today would not be familiar with. For old timers, these things arouse nostalgia. Rajiv Krishna Saxena]

आया वसंत आया वसंत
छाई जग में शोभा अनंत

सरसों खेतों में उठी फूल
बौरें आमों में उठीं झूल
बेलों में फूले नये फूल
पल में पतझड़ का हुआ अंत
आया वसंत आया वसंत

ले कर सुगंध बह रही पवन
हरियाली छाई है बन बन
सुंदर लगता है घर आँगन
है आज मधुर सब दिग् दिगंत
आया वसंत आया वसंत

भौंरे गाते हैं नया गान
कोकिला छेड़ती कुहू तान
है सब जीवों के सुखी प्राण
इस सुख का हो अब नहीं अंत
आया वसंत आया वसंत

∼ सोहनलाल द्विवेदी

4,641 total views, 6 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *