Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Dec 26, 2015 in Shabda Chitra Poems | 0 comments

सद्य स्नाता – प्रतिभा सक्सेना

सद्य स्नाता – प्रतिभा सक्सेना

Introduction: See more

In this poem, Pratibha Saxena gives a magical commentary of dusk turning to night and then into early morning dawn. Imagery is a bit erotic and delightfully teasing. Enjoy. Rajiv Krishna Saxena

झकोर–झकोर धोती रही,
संवराई संध्या,
पश्चिमी घात के लहराते जल में,
अपने गौरिक वसन,
फैला दिये क्षितिज की अरगनी पर
और उत्तर गई गहरे
ताल के जल में

डूब–डूब, मल–मल नहायेगी रात भर
बड़े भोर निकलेगी जल से,
उजले–निखरे सिन्ग्ध तन से झरते
जल–सीकर घांसो पर बिखेरती,
ताने लगती पंछियों की छेड़ से लजाती,
दोनो बाहें तन पर लपेट
सद्य – स्नात सौंदर्य समेट,
पूरब की अरगनी से उतार उजले वस्त्र
हो जाएगी झट
क्षितिज की ओट!

~ प्रतिभा सक्सेना

Classic View  Home

917 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *