Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 18, 2016 in Shabda Chitra Poems | 0 comments

है यह पतझड़ की शाम, सखे – हरिवंश राय बच्चन

है यह पतझड़ की शाम, सखे – हरिवंश राय बच्चन

है यह पतझड़ की शाम, सखे!

नीलम-से पल्लव टूट ग‌ए,
मरकत-से साथी छूट ग‌ए,
अटके फिर भी दो पीत पात
जीवन-डाली को थाम, सखे!
है यह पतझड़ की शाम, सखे!

लुक-छिप करके गानेवाली,
मानव से शरमानेवाली
कू-कू कर कोयल माँग रही
नूतन घूँघट अविराम, सखे!
है यह पतझड़ की शाम, सखे!

नंगी डालों पर नीड़ सघन,
नीड़ों में है कुछ-कुछ कंपन,
मत देख, नज़र लग जा‌एगी;
यह चिड़ियों के सुखधाम, सखे!
है यह पतझड़ की शाम, सखे!

∼ हरिवंश राय बच्चन

 
Classic View Home

1,737 total views, 2 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *