Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Nov 25, 2015 in Rain Poems, Shabda Chitra Poems | 1 comment

बूँद टपकी एक नभ से – भवानी प्रसाद मिश्र

बूँद टपकी एक नभ से – भवानी प्रसाद मिश्र

Introduction: See more

Here is a lovely poem of Bhavani Prasad Mishra on rains…first few drops from the sky and then heavy showers. You need to read it out loud and slowly and see the magic of the flow of language.

बूँद टपकी एक नभ से,
किसी ने झुक कर झरोके से
कि जैसे हंस दिया हो,
हंस रही – सी आँख ने जैसे
किसी को कस दिया हो;
ठगा – सा कोई किसी की आँख
देखे रह गया हो,
उस बहुत से रूप को रोमांच रोके
सह गया हो।

बूँद टपकी एक नभ से,
और जैसे पथिक
छू मुस्कान, चौंको और घूमे
आँख उस की, जिस तरह
हंसती हुई – सी आँख चूमे,
उस तरह मै ने उठाई आँख
बादल फट गया था,
चन्द्र पर अत हुआ – सा अभ्र
थाड़ा हट गया था।

बूँद टपकी एक नभ से
ये कि जैसे आँख मिलते ही
झरोका बंद हो ले,
और नूपुर ध्वनि झमक कर,
जिस तरह दुत छंद हो ले,
उस तरह बादल सिमट कर,
चन्द्र पर छाय अचानक,
और पानी के हज़ारों बूँद
तब आये अचानक।

~ भवानी प्रसाद मिश्र

Classic View Home

929 total views, 1 views today

1 Comment

  1. Amazing…Great help

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *