Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Oct 12, 2015 in Shabda Chitra Poems | 0 comments

बांसुरी दिन की – माहेश्वर तिवारी

बांसुरी दिन की – माहेश्वर तिवारी

Introduction: See more

Here is a nice poetic interpretation of a quiet day in forest and natural outdoors. Rajiv Krishna Saxena

होंठ पर रख लो उठा कर
बांसुरी दिन की

देर तक बजते रहें
ये नदी, जंगल, खेत
कंपकपी पहने खड़े हों
दूब, नरकुल, बेंत

पहाड़ों की हथेली पर
धूप हो मन की।

धूप का वातावरण हो
नयी कोंपल–सा
गति बन कर गुनगुनाये
ख़ुरदुरी भाषा

खुले वत्सल हवाओं की
दूधिया खिड़की।

∼ माहेश्वर तिवारी

 

Classic View

629 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *