Pages Menu
Categories Menu

Posted on Feb 20, 2016 in Rain Poems | 0 comments

कल और आज – नागार्जुन

कल और आज – नागार्जुन

Introduction: See more

This beautiful poem by Nagarjuna depicts the stark contrast before and after the onset of rains. There is no doubt, in the Northern Indian planes, rains bring in a new lease of life for Nature and human beings alike. Lovely frog has been drawn by Garima Saxena – Rajiv K. Saxena

अभी कल तक
गालियां देते थे तुम्हें
हताश खेतिहर,

अभी कल तक
धूल में नहाते थे
गौरैयों के झुंड,

अभी कल तक
पथराई हुई थी
धनहर खेतों की माटी,

अभी कल तक
दुबके पड़े थे मेंढक,
उदास बदतंग था आसमान!

और आज
ऊपर ही ऊपर तन गए हैं
तुम्हारे तंबू,

और आज
छमका रही है पावस रानी
बूंदा बूंदियों की अपनी पायल,

और आज
चालू हो गई है
झ्ींगुरों की शहनाई अविराम,

और आज
जोर से कूक पड़े
नाचते थिरकते मोर,

और आज
आ गई वापस जान
दूब की झुलसी शिराओं के अंदर,

और आज
विदा हुआ चुपचाप ग्रीष्म
समेट कर अपने लव लश्कर।

~ नागार्जुन

 
Classic View Home

4,105 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *