Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Nov 16, 2015 in Bal Kavita, Nostalgia Poems, Rain Poems | 0 comments

रिम झिम बरस रहा है पानी – राजीव कृष्ण सक्सेना

रिम झिम बरस रहा है पानी – राजीव कृष्ण सक्सेना

Introduction: See more

Monsoon rains would soon hit India. After grilling heat, we are all ready to welcome the cool raindrops with open arms. Here is a poem welcoming Varsha Rani – Rajiv Krishna Saxena

गड़ गड़ गड़ गड़ गरज गरज घन
चम चम चमक बिजुरिया के संग
ढम ढम ढम ढम पिटा ढिंढोरा
झूम उठा सारा जन जीवन

उमड़ घुमड़ कर मेघों नें अब
आंधी के संग करी चढ़ाई
तड़क तड़क तड़िता की सीढ़ी
उतर गगन से वर्षा आई

अरसे से बेहाल धरा पर
सूखे वृक्षों पर खेतों पर
झूम बदरिया छाई घिर घिर
ताप धरा का हरने को फिर

बुनी चुनरिया उसने धानी
रिम झिम बरस रहा है पानी

भटक रहे थे प्यासे प्यासे
पंछी इधर उधर बौराए
थक निढाल हो कर सुस्ताते
पथिक किनारे पर मुरझाए

झुलसाने वाली गर्मी से
त्राण सभी पाते हैं प्राणी
तुरहि बजाओ थाल सजाओ
आ पहुंची है वर्षा रानी

सोंधी सोंधी उठी सुगंधी
पवन हो गयी ठंडी ठंडी
उल्लासित तन मन करती है
नव ऋतु की मोहक सारंगी

मस्त पवन करती मनमानी
रिम झिम बरस रहा है पानी

बेमतलब मन की उधेड़बुन
बेमतलब ही मन उदास था
बेमतलब ही गुमसुम गुमसुम
भटक रहा कुछ आसपास था

झीनी झीनी सी बूंदें अब
चेहरे पर नवजीवन भरतीं
और अनमनी सी लट पर गिर
लटक लटक अठखेली करतीं

कैद उमंगें थीं जिनमें वह
अंतर के बंधन खुलते हैं
और मस्त इन बौछारों में
मैल सभी मन के धुलते हैं

होठों पर अब तान पुरानी
रिम झिम बरस रहा है पानी

इस पल में ऐसा लगता ज्यों
शांत व्यथाएं सभी जगत की
यह पल ऐसा जैसे की सब
भूल गए खटपट जीवन की

इस पल में सब सुधबुध खो कर
मस्त बदरिया को लखते हैं
इस पल में एकाग्र हूआ मन
शोक सभी जग के हटते हैं

कुंठाएं सब भूल समय यह
अवसादों को ढकने का है
यह अमूल्य क्षण शांत खड़े हो
बौछारों को तकने का है

छटा अलौकिक छटा सुहानी
रिम झिम बरस रहा है पानी

कितना है उत्पात जगत में
कितनी हिंसा मारा मारी
और गरीबी बेहाली में
पिसती रहती जनता सारी

आज मगर वर्षा की बूंदों
के गिरने की टप टप ही है
दूर दूर तक खाली सड़कें
राग कोइ वर्षा का गाएं

तारकोल के रंगमंच पर
लाज शर्म सब छोड़ मगन हो
मस्त मुदित मन छाम छाम नाचें
घनदल की प्यारी कान्याएं

तिनक तिनक धिन दिर दिर धानी
रम झिम बरस रहा है पानी

छत का पानी गलियों के
पतनालों से मिलने को उत्सुक
और पेड़ कुछ बहुत यत्न से
धोते हैं पत्तों को गुपचुप

बाहर के आले में भीगी
गौरैया तकती आशंकित
बागीचे में बेल चमेली की
चम्पा को छेड़े छिप छिप

नन्हें बच्चे दीदी से
कागज की नावें बनवाते हैं
भीग भीग कर उनको बाहर
पतनालों में तैराते हैं

किलकारी जानी पहचानी
रिम झिम बरस रहा है पानी

∼ राजीव कृष्ण सक्सेना

 
Classic View Home

2,375 total views, 3 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *