Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Aug 24, 2015 in Nostalgia Poems | 0 comments

जैसी माँ – निदा फाज़ली

जैसी माँ – निदा फाज़ली

[Nida Fazli’s poems are amazingly close to real life. Here is a portrait of mother that many would identify as their own. ∼ Rajiv Krishna Saxena]

बेसन की सोंधी रोटी पर
खट्टी चटनी जैसी माँ
याद आती है चौका–बासन
चिमटा, फुकनी – जैसी माँ!
बान की खुर्री खाट के ऊपर
हर आहट पर कान धरे
आधी सोयी–आधी जागी
थकी दुपहरी – जैसी माँ!

चिड़ियों की चहकार में गूँजे
राधा–मोहन, अली–अली
मुर्गे की आवाज़ से खुलती
घर की कुण्डी – जैसी माँ!

बीबी, बेटी, बहन, पड़ोसन
थोड़ी–थोड़ी–सी सब में
दिन भर इक रस्सी के ऊपर
चलती नटनी – जैसी माँ!

बाँट के अपना चेहरा, माथा
आँखें जाने कहाँ गयीं
फटे पुराने इक एलबम में
चंचल लड़की – जैसी माँ!

∼ निदा फ़ाज़ली

915 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *