Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Dec 26, 2015 in Frustration Poems, Love Poems | 0 comments

यह बात किसी से मत कहना – देवराज दिनेश

यह बात किसी से मत कहना – देवराज दिनेश

Introduction: See more

Two lovers who cannot disclose their love to the world, have to be very careful indeed. Here is a poem of Devraj Dinesh saying just that. Rajiv Krishna Saxena

तेरे पिंजरे का तोता
तू मेरे पिंजरे की मैना
यह बात किसी से मत कहना।

मैं तेरी आंखों में बंदी
तू मेरी आंखों में प्रतिक्षण
मैं चलता तेरी सांस–सांस
तू मेरे मानस की धड़कन
मैं तेरे तन का रत्नहार
तू मेरे जीवन का गहना!
यह बात किसी से मत कहना!!

हम युगल पखेरू हंस लेंगे
कुछ रो लेंगे कुछ गा लेंगे
हम बिना बात रूठेंगे भी
फिर हंस कर तभी मना लेंगे
अंतर में उगते भावों के
जलजात किसी से मत कहना!
यह बात किसी से मत कहना!!

क्या कहा! कि मैं तो कह दूंगी!
कह देगी तो पछताएगी
पगली इस सारी दुनियां में
बिन बात सताई जाएगी
पीकर प्रिये अपने नयनों की बरसात
विहंसती ही रहना!
यह बात किसी से मत कहना!!

हम युगों युगों के दो साथी
अब अलग अलग होने आए
कहना होगा तुम हो पत्थर
पर मेरे लोचन भर आए
पगली इस जग के अतल–सिंधु मे
अलग अलग हमको बहना!
यह बात किसी से मत कहना!!

∼ देवराज दिनेश

 
Classic View Home

1,060 total views, 3 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *