Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 6, 2016 in Contemplation Poems, Frustration Poems, Love Poems | 0 comments

तुम जानो या मैं जानूँ – शंभुनाथ सिंह

तुम जानो या मैं जानूँ – शंभुनाथ सिंह

Introduction: See more

It all ended but so much remained unsaid. Those unsaid thoughts are forever locked in your heart or in mine. Here is a lovely poem by Shambhunath Singh – Rajiv Krishna Saxena

जानी अनजानी‚ तुम जानो या मैं जानूँ।

यह रात अधूरेपन की‚ बिखरे ख्वाबों की
सुनसान खंडहरों की‚ टूटी मेहराबों की
खंण्डित चंदा की‚ रौंदे हुए गुलाबों की

जो होनी अनहोनी हो कर इस राह गयी
वह बात पुरानी – तुम जानो या मैं जानूँ।

यह रात चांदनी की‚ धुंधली सीमाओं की
आकाश बांधने वाली खुली भुजाओं की
दीवारों पर मिलती लंबी छायाओं की

निज पदचिन्हों के दिये जलाने वालों की
ये अमिट निशानी‚ तुम जानो या मैं जानूँ।

यह एक नाम की रात‚ हजारों नामों की
अनकही विदाओं की‚ अनबोल प्रणामों की
अनगिनित विहंसते प्रांतों‚ रोती शामों की

अफरों के भीतर ही बनने मिटने वाली
यह कथा कहानी‚ तुम जानो या मैं जानूँ।

यह रात हाथ में हाथ भरे अरमानों की
वीरान जंगलों की‚ निर्झर चट्टानों की
घाटी में टकराते खामोश तरानों की

त्यौहार सरीखी हंसी‚ अजाने लोकों की
यह बे पहचानी‚ तुम जानो या मैं जानूँ।

∼ डॉ. शंभुनाथ सिंह

 
Classic View Home

792 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *