Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 16, 2016 in Love Poems | 0 comments

स्नेह निर्झर बह गया है – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

स्नेह निर्झर बह गया है – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Introduction: See more

Love is the essence. As retreating water leaves the sand dry, so does lost love leave a person drained, and lifeless. Here is a beautiful expression by Nirala – Rajiv Krishna Saxena

स्नेह निर्झर बह गया है,
रेत सा तन रह गया है।

आग की यह डाल जो सूखी दिखी‚
कह रही है – अब यहां पिक या शिखी‚
नहीं आते पंक्ति मैं वह हूं लिखी‚
नहीं जिसका अर्थ–
जीवन दह गया है।

दिये हैं मैंने जगत को फूल–फल‚
किया है अपनी प्रभा से चकित चल‚
पर अनश्वर था सकल पल्लवित पल‚
ठाट जीवन का वही–
जो ढह गया है।

अब नही आती पुलिन पर प्रियतमा‚
श्याम तृण पर बैठने को निरुपमा‚
बह रही है हृदय पर केवल अमाऌ
मैं अलक्षित हूं‚ यही
कवि कह गया है।

स्नेह निर्झर बह गया है‚
रेत सा तन रह गया है।

∼ सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

 
Classic View Home

3,722 total views, 5 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *