Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 16, 2016 in Contemplation Poems, Frustration Poems, Love Poems, Shabda Chitra Poems | 0 comments

मन पाखी टेरा रे – वीरबाला भावसार

मन पाखी टेरा रे – वीरबाला भावसार

Introduction: See more

Veerbala Ji’s poems have that very familiar scent of earth. These precious poems appear to belong to an era where nature and feelings reigned supreme, without any encroachment of the modern world of artificiality. It is amazing how we feel so much at ease and close to ourselves in this milieu of flowers, birds, earth, sky and deep feelings – Rajiv Krishna Saxena

रुक रुक चले बयार, कि झुक झुक जाए बादल छाँह
कोई मन सावन घेरा रे, कोई मन सावन घेरा रे
ये बगुलों की पांत उडी मन के गोले आकाश
कोई मन पाखी टेरा रे
कोई मन पाखी टेरा रे

कौंध कौंध कर चली बिजुरिया, बदल को समझने
बीच डगर मत छेड़ लगी है, पूर्व हाय लजाने
सहमे सकुचे पांव, कि नयनों पर पलकों की छाँव
किसने मुद कर हेरा रे
कोई मन पाखी टेरा रे

झूम झूम झुक जाए चंपा, फूल फूल उतराये
गदराई केलों की कलियाँ, सावन शोर मचाये
रिम झिम बरसे प्यार की पल पल उमगे मेघ मल्हार
मधुर रास सारा तेरा रे
कोई मन पाखी टेरा रे

पात पात लहराए बगिया, उमग उमग बौराये
सौंधी सौंधी गंध धरा की, कन कन महकी जाये
बहकी बहकी सांस, कि अँखियों भर भर दिये उजास
मन कहाँ बसेरा रे
कोई मन पाखी टेरा रे

रूठ रूठ खुल जाये पयलिया, छुम छुम चली मनाने
सूने सूने पांव महावर, दुल्हिन चली रचाने
किसके मन की बात, की सकुचे किसका कोमल गात
कहाँ पर हुआ सवेरा रे
कोई मन पाखी टेरा रे
कोई मन पाखी टेरा रे

∼ डॉ. वीरबाला भावसार

 
Classic View Home

898 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *