Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 15, 2016 in Love Poems | 0 comments

लजीली रात आई है – चिरंजीत

लजीली रात आई है – चिरंजीत

Introduction: See more

Most of our lives are hum-drum. There are few moments of elation and stretches of depression. Meeting the love is a super special event, and that unique night gets ingrained in memory as one of the highest notes of life. Here is a lovely poem by Chiranjeet – Rajiv Krishna Saxena

सजोले चांद को लेकर‚ नशीली रात आई है।
नशीली रात आई है।

बरसती चांदनी चमचम‚ थिरकती रागिनी छम छम‚
लहरती रूप की बिजली‚ रजत बरसात आई है।
नशीली रात आई है।

जले मधु रूप की बाती‚ दुल्हनिया रूप मदमाती‚
मिलन के मधुर सपनों की‚ सजी बारात आई है।
नशीली रात आई है।

सजी है दूधिया राहें‚ जगी उन्मादनी चाहें‚
रही जो अब तलक मन में‚ लबों पर बात आई है।
नशीली रात आई है।

~ चिरंजीत

Classic View Home

864 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *