Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 24, 2016 in Love Poems | 0 comments

जो तुम आ जाते एक बार – महादेवी वर्मा

जो तुम आ जाते एक बार – महादेवी वर्मा

Introduction: See more

Here is a lovely poem of intense longing by Mahadevi Verma. How would every change only if you just come once – Rajiv Krishna Saxena

जो तुम आ जाते एक बार।

कितनी करूणा कितने संदेश,
पथ में बिछ जाते बन पराग,
गाता प्राणों का तार तार,
अनुराग भरा उन्माद राग,
आँसू लेते वे पथ पखार।

जो तुम आ जाते एक बार।

हँस उठते पल में आर्द्र नयन,
धुल जाता होठों से विषाद,
छा जाता जीवन में बसंत,
लुट जाता चिर संचित विराग,
आँखें देतीं सर्वस्व वार।

जो तुम आ जाते एक बार।

∼ महादेवी वर्मा

 
Classic View Home

1,363 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *