Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 9, 2016 in Love Poems | 0 comments

देह के मस्तूल – चंद्रसेन विराट

देह के मस्तूल – चंद्रसेन विराट

Introduction: See more

Love is supreme. This feeling and instinct is intimately linked to our biological evolution (please see the article Philosophy of Love). Here is a lovely poem of Chandrasen Virat Ji – Rajiv Krishna Saxena

अंजुरी–जल में प्रणय की‚
अंर्चना के फूल डूबे

ये अमलतासी अंधेरे‚
और कचनारी उजेरे,
आयु के ऋतुरंग में सब
चाह के अनुकूल डूबे।

स्पर्श के संवाद बोले‚
रक्त में तूफान घोले‚
कामना के ज्वार–जल में
देह के मस्तूल डूबे।

भावना से बुद्धि मोहित–
हो गई पज्ञा तिरोहित‚
चेतना के तरु–शिखर डूबे‚
सु–संयम मूल डूबे।

∼ चंद्रसेन विराट

 
Classic View Home

800 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *