Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Oct 6, 2015 in Love Poems | 0 comments

बाँधो न नाव इस ठाँव, बन्धु – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

बाँधो न नाव इस ठाँव, बन्धु – सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

Introduction: See more

Here is a short poem by the famous poet Suryakant Tripathi Nirala that I am sure you would enjoy – Rajiv Krishna Saxena

बाँधो न नाव इस ठाँव, बन्धु!
पूछेगा सारा गाँव, बन्धु!

यह घाट वही जिस पर हँसकर,
वह कभी नहाती थी धँसकर,
आँखें रह जाती थीं फँसकर,
कँपते थे दोनों पाँव बन्धु!

बाँधो न नाव इस ठाँव, बन्धु!
पूछेगा सारा गाँव, बन्धु!

वह हँसी बहुत कुछ कहती थी,
फिर भी अपने में रहती थी,
सबकी सुनती थी, सहती थी,
देती थी सबके दाँव, बन्धु!

बाँधो न नाव इस ठाँव, बन्धु!

∼ सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

 
Classic View

1,966 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *