Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 10, 2016 in Life And Time Poems | 0 comments

कौन थकान हरे जीवन की – गिरिजा कुमार माथुर

कौन थकान हरे जीवन की – गिरिजा कुमार माथुर

Introduction: See more

Living a life is not such an easy chore. It tires out a person. At the end of it, one gets a feeling how absurd and pointless the whole affair was, and how pointless it is to get exhausted in doing so… A very lovely poem by Girija Kumar Mathur. Look at the last three lines. It is impossible to translate the feeling of pathos these lines evoke. Art work is by Garima Saxena – Rajiv Krishna Saxena

कौन थकान हरे जीवन की?

बीत गया संगीत प्यार का‚
रूठ गई कविता भी मन की।

वंशी में अब नींद भरी है‚
स्वर पर पीत सांझ उतरी है
बुझती जाती गूंज आखिरी —

इस उदास बन पथ के ऊपर
पतझर की छाया गहरी है‚

अब सपनों में शेष रह गई
सुधियां उस चंदन के बन की।

रात हुई पंछी घर आए‚
पथ के सारे स्वर सकुचाए‚
म्लान दिया वत्ती की बेला —
थके प्रवासी की आंखों में
आंसू आ आ कर कुम्हलाए‚

कहीं बहुत ही दूर उनींदी
झांझ बज रही है पूजन की।

कौन थकान हरे जीवन की?

∼ गिरिजा कुमार माथुर

 
Classic View Home

542 total views, 2 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *