Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Dec 30, 2015 in Desh Prem Poems, Life And Time Poems, Nostalgia Poems | 0 comments

घर वापसी – राजनारायण बिसारिया

घर वापसी – राजनारायण बिसारिया

Introduction: See more

Raj Narayan Bisaria Ji, the well know Hindi poet, worked in Hindi service of BBC in London for ten years. Here is a poem he wrote when he finally returned to India. The poem shows the sheer exhilaration of home-coming. Enjoy! Rajiv Krishna Saxena.

घर लौट के आया हूँ, यही घर है हमारा
परदेश बस गए तो तीर न मारा।

ठंडी थीं बर्फ की तरह नकली गरम छतें,
अब गुनगुनाती धुप का छप्पर है हमारा।

जुड़ता बड़ा मुश्किल से था इंसान का रिश्ता
मौसम की बात से शुरू औ’ ख़त्म भी, सारा।

सुविधाओं को खाएँ–पीएँ ओढ़ें भी तो कब तक
अपनों के बिना होता नहीं अपना गुजारा।

वसुधा कुटुंब है, मगर पहले कुटुंब है,
दुनिया चमक उठेगा अपना घर जो बुहारा।

उसका विदेशी सिक्कों से संबंध नहीं है।
लौटना है, मिटटी से लिया है जो उधारा।

घर था मगर हर वक़्त दुबकता मकान में
स्वागत है यहाँ मौत खटखटाए किवाड़।

अब अपनी जिंदगी को फिर से जीने लगा हूँ
बचपन से लेकर आज तलक फिर से, दुबारा।

∼ राजनारायण बिसारिया

 

Classic View  Home

882 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *