Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 18, 2016 in Life And Time Poems | 0 comments

दुपहरिया – केदार नाथ सिंह

दुपहरिया – केदार नाथ सिंह

Introduction: See more

As trees shed their leaves and nature takes a pause before the phase of renewal, time seem to pause too and there is a feeling of emptiness… captured beautifully by Kedarnath Singh Ji- Rajiv Krishna Saxena

झरने लगे नीम के पत्ते बढ़ने लगी उदासी मन की,

उड़ने लगी बुझे खेतों से
झुर झुर सरसों की रंगीनी,
धूसर धूप हुई मन पर ज्यों­­–
सुधियों की चादर अनबीनी,

दिन के इस सुनसान पहर में रुक­सी गई प्रगति जीवन की।

सांस रोक कर खड़े हो गये
लुटे­–लुटे­ से शीशम उन्मन,
चिलबिल की नंगी बाहों में
भरने लगा एक खोयापन,

बड़ी हो गई कटु कानों को “चुर­–मुर” ध्वनि बांसों के बन की।

थक कर ठहर गई दुपहरिया,
रुक कर सहम गई चौबाई,
आंखों के इस वीराने में­­
और चमकने लगी रुखाई,

प्रान, आ गए दर्दीले दिन, बीत गईं रातें ठिठुरन की।

— केदार नाथ सिंह

 
Classic View Home

985 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *