Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 24, 2016 in Life And Time Poems | 0 comments

दो अनुभूतियाँ – अटल बिहारी वाजपेयी

दो अनुभूतियाँ – अटल बिहारी वाजपेयी

Introduction: See more

In most human endeavors, there are ups and downs. But in the field of politics, downswings can be brutal and up-swings full of elation and optimism. Two poems of Atal Ji reflect beautifully on this roller coaster. First one appears to have been written in a phase of disillusionment and dejection when the poet’s heart says, “I won’t sing any more”. But the scenario and circumstances change, the optimism is back in the air. Old desolation is forgotten and it is time to rise and march on with a new song in the heart. Please read on and experience these two moods -Rajiv K. Saxena

पहली अनुभूति: गीत नहीं गाता हूँ

बेनक़ाब चेहरे हैं,
दाग़ बड़े गहरे हैं
टूटता तिलिस्म आज सच से भय खाता हूँ
गीत नहीं गाता हूँ

लगी कुछ ऐसी नज़र
बिखरा शीशे सा शहर
अपनों के मेले में मीत नहीं पाता हूँ
गीत नहीं गाता हूँ

पीठ मे छुरी सा चांद
राहू गया रेखा फांद
मुक्ति के क्षणों में बार बार बंध जाता हूँ
गीत नहीं गाता हूँ

दूसरी अनुभूति: गीत नया गाता हूँ

टूटे हुए तारों से फूटे बासंती स्वर
पत्थर की छाती मे उग आया नव अंकुर
झरे सब पीले पात
कोयल की कुहुक रात

प्राची मे अरुणिम की रेख देख पता हूँ
गीत नया गाता हूँ

टूटे हुए सपनों की कौन सुने सिसकी
अन्तर की चीर व्यथा पलको पर ठिठकी
हार नहीं मानूँगा,
रार नहीं ठानूँगा,

काल के कपाल पे लिखता मिटाता हूँ
गीत नया गाता हूँ

~ अटल बिहारी वाजपेयी

 
Classic View Home

1,720 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *