Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 9, 2016 in Life And Time Poems | 0 comments

धूप सा तन दीप सी मैं – महादेवी वर्मा

धूप सा तन दीप सी मैं – महादेवी वर्मा

Introduction: See more

Here is another famous poem of Mahadevi Verma – Rajiv Krishna Saxena

धूप सा तन दीप सी मैं।

उड़ रहा नित एक सौरभ-धूम-लेखा में बिखर तन,
खो रहा निज को अथक आलोक-सांसों में पिघल मन
अश्रु से गीला सृजन-पल,
औ’ विसर्जन पुलक-उज्ज्वल,
आ रही अविराम मिट मिट
स्वजन ओर समीप सी मैं।

धूप सा तन दीप सी मैं।

सघन घन का चल तुरंगम चक्र झंझा के बनाये,
रश्मि विद्युत ले प्रलय-रथ पर भले तुम श्रान्त आये,
पंथ में मृदु स्वेद-कण चुन,
छांह से भर प्राण उन्मन,
तम-जलधि में नेह का मोती
रचूंगी सीप सी मैं।

धूप-सा तन दीप सी मैं।

∼ महादेवी वर्मा

 
Classic View Home

696 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *