Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 16, 2016 in Inspirational Poems, Old Classic Poems | 0 comments

तुम्हें नमन – सोहनलाल द्विवेदी

तुम्हें नमन – सोहनलाल द्विवेदी

Introduction: See more

Albert Einstein said about him, “Generations to come will scarcely believe that such a one as this walked the earth in flesh and blood”. What a phenomenon our Father of the nation was! He took on an empire about which it was said that the “sun never sets on it”, and lead a whole subcontinent to freedom. That too while shunning violence and keeping the moral high ground. He had mesmerized the nation. People looked to him to get cues for what to do. This is beautifully depicted in a classical poem by Sohanlal Dwivedi. An abridged version of this poem venerating Rashtrapita Mahatma Gandhi is here for you to relish – Rajiv Krishna Saxena

चल पड़े जिधर दो डग, मग में
चल पड़े कोटि पग उसी ओर;
गड़ गई जिधर भी एक दृष्टि
गड़ गए कोटि दृग उसी ओर,

जिसके शिर पर निज हाथ धरा
उसके शिर- रक्षक कोटि हाथ
जिस पर निज मस्तक झुका दिया
झुक गए उसी पर कोटि माथ;

हे कोटि चरण, हे कोटि बाहु
हे कोटि रूप, हे कोटि नाम!
तुम एक मूर्ति, प्रतिमूर्ति कोटि
हे कोटि मूर्ति, तुमको प्रणाम!

युग बढ़ा तुम्हारी हँसी देख
युग हटा तुम्हारी भृकुटि देख,
तुम अचल मेखला बन भू की
खीचते काल पर अमिट रेख;

तुम बोल उठे युग बोल उठा
तुम मौन रहे, जग मौन बना,
कुछ कर्म तुम्हारे संचित कर
युगकर्म जगा, युगधर्म तना;

युग-परिवर्तक, युग-संस्थापक
युग संचालक, हे युगाधार!
युग-निर्माता, युग-मूर्ति तुम्हें
युग युग तक युग का नमस्कार!

दृढ़ चरण, सुदृढ़ करसंपुट से
तुम काल-चक्र की चाल रोक,
नित महाकाल की छाती पर
लिखते करुणा के पुण्य श्लोक!

हे युग-द्रष्टा, हे युग सृष्टा,
पढ़ते कैसा यह मोक्ष मन्त्र?
इस राजतंत्र के खण्डहर में
उगता अभिनव भारत स्वतन्त्र!

~ सोहनलाल द्विवेदी

 
Classic View Home

2,030 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *