Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Mar 7, 2016 in Inspirational Poems | 0 comments

मंजिल दूर नहीं है – रामधारी सिंह दिनकर

मंजिल दूर नहीं है – रामधारी सिंह दिनकर

Introduction: See more

Here is one of those poems written with golden soothing words by Dinkar Ji. It consoles, it enthuses, it exhorts, to get up and finish the last lap of the journey. Rajiv Krishna Saxena

वह प्रदीप जो दीख रहा है
झिलमिल दूर नहीं है।
थक कर वैठ गये क्या भाई!
मंजिल दूर नहीं है।

अपनी हड्डी की मशाल से
हृदय चीरते तम का‚
सारी रात चले तुम दुख –
झेलते कुलिश निर्मल का‚
एक खेय है शेष
किसी विध पार उसे कर जाओ‚
वह देखो उस पार चमकता है
मंदिर प्रियतम का।
आकर इतना पास फिरे‚
वह सच्चा शूर नहीं है।
थक कर वैठ गये क्या भाई!
मंजिल दूर नहीं है।

दिशा दीप्त हो उठी प्राप्त कर
पुण्य प्रकाश तुम्हारा‚
लिखा जा चुका अनल अक्षरों में
इतिहास तुम्हारा‚
जिस मिट्टी ने लहू पिया
वह फूल खिलाएगी ही‚
अंबर पर धन बन छायेगा
ही उच्छ्वास तुम्हारा।
और अथिक ले जांच‚
देवता इतना क्रूर नहीं है।
थक कर वैठ गये क्या भाई!
मंजिल दूर नहीं है।

~ रामधारी सिंह दिनकर

 
Classic View Home

7,516 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *