Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Apr 7, 2016 in Inspirational Poems | 1 comment

अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है? – हरिवंश राय बच्चन

अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है? – हरिवंश राय बच्चन

Introduction: See more

Convictions are so rarely seen these days. We may have high and noble ideas but when it comes to actually do some thing about them, few actually step forward. In such a milieu, if we see some one actually sticking to his / her convictions and taking a stand even though it may worldly harm him / her, our heads bow down in deep appreciation. We see a great soul there and ask as Bachchan does in this moving poem, “Andheri raat main deepak jalaye kaun baitha hai ?” – Rajiv Krishna Saxena

अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

उठी ऐसी घटा नभ में
छिपे सब चांद औ’ तारे,
उठा तूफान वह नभ में
गए बुझ दीप भी सारे,
मगर इस रात में भी लौ लगाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

गगन में गर्व से उठउठ,
गगन में गर्व से घिरघिर,
गरज कहती घटाएँ हैं,
नहीं होगा उजाला फिर,
मगर चिर ज्योति में निष्ठा जमाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

तिमिर के राज का ऐसा
कठिन आतंक छाया है,
उठा जो शीश सकते थे
उन्होनें सिर झुकाया है,
मगर विद्रोह की ज्वाला जलाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

प्रलय का सब समां बांधे
प्रलय की रात है छाई,
विनाशक शक्तियों की इस
तिमिर के बीच बन आई,
मगर निर्माण में आशा दृढ़ाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

प्रभंजन, मेघ दामिनी ने
न क्या तोड़ा, न क्या फोड़ा,
धरा के और नभ के बीच
कुछ साबित नहीं छोड़ा,
मगर विश्वास को अपने बचाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

प्रलय की रात में सोचे
प्रणय की बात क्या कोई,
मगर पड़ प्रेम बंधन में
समझ किसने नहीं खोई,
किसी के पथ में पलकें बिछाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

∼ हरिवंश राय बच्चन

 
Classic View Home

3,973 total views, 5 views today

1 Comment

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *