Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Dec 26, 2015 in Hasya Vyang Poems | 0 comments

मेरे राम जी – अल्हड़ बीकानेरी

मेरे राम जी – अल्हड़ बीकानेरी

Introduction: See more

Wife is the best companion in old age. Here is an excerpt from a funny poem by Alhad Bikaneri, that describes the devastation fely by an old man ignored by his wife. Rajiv Krishna Saxena

चाल मुझ तोते की बुढ़ापे में बदल गई
बदली कहां है मेरी तोती मेरे राम जी
बहुएँ हैं घर में‚ मगर निज धोतियों को
खुद ही रगड़ कर धोती मेरे राम जी
फँसी रही मोह में जवानी से बुढ़ापे तक
तोते पे नज़र कब होती मेरे राम जी
पहले तो पाँच बेटी–बेटों को सुलाया साथ
अब सो रहे हैं पोती–पोते मेरे राम जी।

चढ़ती जवानी मेरी चढ़के उतर गई
ढलती उमरिया ने मारा मेरे राम जी
स्वर्ण–भस्म खाई‚ कहां लौट के जवानी आई
बाल डाई कर के मैं हारा मेरे राम जी
कानों से यूँ थोड़ा–थोड़ा देता है सुनाई मुझे
सुनते ही क्यों न चढ़े पारा मेरे राम जी
आज के जमाने की रे नई–नई मारुतियाँ
बोलती हैं मुझको खटारा मेरे राम जी।

छरहरि काया मेरी जाने कहाँ छूट गई
छाने लगा मुझपे मोटापा मेरे राम जी
मारवाड़ी सेठ जैसा पेट मेरा फूल गया
कल को पड़े न कहीं छापा मेरे राम जी
घर में वो चैन कहाँ‚ रस–भरे बैन कहाँ
खो न बैठूं किसी दिन आपा मेरे राम जी
मेरी बुढ़िया भी बेट–बेटियों की देखा देखी
मुझको पुकारती हे पापा मेरे राम जी।

∼ अल्हड़ बीकानेरी

 
Classic View  Home

704 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *