Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Nov 27, 2016 in Hasya Vyang Poems | 0 comments

देवानंद और प्रेमनाथ – शैल चतुर्वेदी

देवानंद और प्रेमनाथ – शैल चतुर्वेदी

Introduction: See more

Shail Chaturvadi the well known hasya kavi often makes fun of his own bald head and fat body with protruding belly. Here he tells us that in his youth he actually had full hair head like Devanand, though in old age he is more like Premnath. Rajiv Krishna Saxena

एक बार हम रिक्शे में बैठ गए
ठिकाने पर पहुँच कर
पचास पैसे थमाए
तो रिक्शा चालक ऐंठ गए
“पचास पैसे थमाते शर्म नहीं आई
लीजिए आप ही सँभालिए
और जल्दी से रुपया निकालिए,
वो तो मैंने
अँधेरे में हाँ कह दी थी
उजाले में होता
तो ठेले की सवारी
रिक्शे में नहीं ढोता”

हमारे शारीरिक विकास
और गंजेपन को देखकर
लोग हमारा मज़ाक उड़ाते हैं
मगर यह भूल जाते हैं
कि जवानी में हम भी
खूबसूरती के कामल थे
हमारे सर पर भी
लहराते हुए चमकीले बाल थे
कॉलेज की लड़कियाँ कॉपी पर
हमारा चित्र बनाती थीं
और दो चार ऐसी थीं
जो हमे देवानंद कह कर बुलाती थीं
मगर भला हो इस गृहस्थी के चक्कर का
जिसने हमे बरबाद कर दिया
देवानंद से प्रेमनाथ कर दिया!

शैल चतुर्वेदी

 
Classic View Home

539 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *