Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Dec 10, 2015 in Frustration Poems, Life And Time Poems, Shabda Chitra Poems | 0 comments

कब बरसेगा पानी – बेकल उत्साही

कब बरसेगा पानी – बेकल उत्साही

Introduction: See more

With the start of hot summer, we all wait for rains. If rains get delayed or fail, life suffers badly; especially so in villages. Here is an excerpt from a lovely poem by Bekal Utsahi, wondering when would it rain. Rajiv Krishna Saxena

सावन भादौं साधु हो गए, बादल सब संन्यासी
पछुआ चूस गई पुरवा को, धरती रह गई प्यासी
फसलों ने वैराग ले लिया, जोगी हो गई धानी
राम जाने कब बरसेगा पानी

ताल तलैया माटी चाटै, नदियाँ रेत चबाएँ
कुएँ में मकड़ी जाला ताने, नहरें चील उड़ाएँ
उबटन से गगरी रूठी है, पनघट से बहुरानी
राम जाने कब बरसेगा पानी

छप्पर पर दुपहरिया बैठी, धूप टँगी अँगनाई
द्वार का बरगद ठूँठ हो गया, उजड़ गई अमराई
चौपालों से खलिहानों, तक सूरज की मनमानी
राम जाने कब बरसेगा पानी

पिघल गया चेहरों का सोना, उतर गई महताबी
गोरी बाँहें हुईं साँवरी, बुझ गए नयन गुलाबी
सपने झुलस गए राधा के, श्याम हुए सैलानी
राम जाने कब बरसेगा पानी

बाज़ारों में मँहगाई की बिखर गई तस्वीरें
हमदर्दों के पाँव पड़ गई वादों की जंजीरें
सँसद की कुरसी में धँस गई खेती और किसानी
राम जाने कब बरसेगा पानी

~ बेकल उत्साही

 
Classic View  Home

1,555 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *