Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Jan 6, 2017 in Desh Prem Poems, Life And Time Poems | 0 comments

गया  साल – राजीव कृष्ण सक्सेना

गया साल – राजीव कृष्ण सक्सेना

Introduction: See more

End of the year 2016 was rather unusual. Demonetization of high value notes brought tough times for all. However, common people in general were convinced that these hard times would usher in a better future. Here are few lines to that effect. Rajiv Krishna Saxena

यूँ तो हर साल गुजर जाता है
अबकी कुछ बात ही निराली है
कुछ गए दिन बहुत कठिन गुजरे
मन मुरादों की जेब खाली है।

कि एक फूल जिसका इंतजार सबको था
उसकी पहली कली है डाली पर
दिल में कुछ अजब सी उमंगें हैं
और नजरें सभी की माली पर

कि एक फूल जिसका इंतजार सबको था
उसकी खुशबू वतन को चूमेगी
दिल में विश्वास की किरण होगी
आँख कुछ स्वप्न देख झूमेगी

कि एक फूल जिसका इंतजार सबको था
उसकी खुशबू हमें जगाएगी
और अहसास यह भी होता है
अब तो यह मुल्क उठ खड़ा होगा
सबके मन की दुआ कुबूलेगा
सबकी उम्मीद पर खरा होगा।

~ राजीव कृष्ण सक्सेना

Classic View  Home

345 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *