Pages Menu
Categories Menu

Posted on Dec 26, 2015 in Contemplation Poems, Frustration Poems | 0 comments

यूं ही होता है – जावेद अख्तर

यूं ही होता है – जावेद अख्तर

Introduction: See more

I recently saw the movie “Zindagi na milegi dobaara”. A nice movie indeed. A poem of Jawed Akhter was effectively used in this film. I would like to share it with the readers. Rajiv Krishna Saxena

जब जब दर्द का बादल छाया
जब ग़म का साया लहराया

जब आंसू पलकों तक आया
जब यह तन्हा दिल घबराया

हमने दिल को यह समझाया
दिल आखिर तू क्यों रोता है
दुनियां में यूं ही होता है

यह जो गहरे सन्नाटे हैं
वक्त ने सब को ही बांटे हैं

थोड़ा ग़म है सबका किस्सा
थोड़ी धूप है सबका हिस्सा

आंखें तेरी बेकार ही नम हैं
हर पल एक नया मौसम है

क्यों तू ऐसा पल खोता है
दिल आखिर तू क्यों रोता है
दुनियां में यूं ही होता है

∼ जावेद अख्तर

 
Classic View Home

653 total views, 3 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *