Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Dec 16, 2015 in Contemplation Poems, Frustration Poems | 0 comments

टूटा पहिया – धर्मवीर भारती

टूटा पहिया – धर्मवीर भारती

Introduction: See more

This poem has been posted on specific request of few readers. It shows that an entirely useless and discarded item may come handy and play a crucial role in larger than life historic events. Rajiv Krishna Saxena

मैं
रथ का टूटा हुआ पहिया हूँ
लेकिन मुझे फेंको मत !

क्या जाने कब
इस दुरूह चक्रव्यूह में
अक्षौहिणी सेनाओं को चुनौती देता हुआ
कोई दुस्साहसी अभिमन्यु आकर घिर जाय !

अपने पक्ष को असत्य जानते हुए भी
बड़े-बड़े महारथी
अकेली निहत्थी आवाज़ को
अपने ब्रह्मास्त्रों से कुचल देना चाहें
तब मैं
रथ का टूटा हुआ पहिया
उसके हाथों में
ब्रह्मास्त्रों से लोहा ले सकता हूँ !

मैं रथ का टूटा पहिया हूँ
लेकिन मुझे फेंको मत
इतिहासों की सामूहिक गति
सहसा झूठी पड़ जाने पर
क्या जाने
सच्चाई टूटे हुए पहियों का आश्रय ले !

∼ धर्मवीर भारती

Classic View  Home

2,764 total views, 2 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *