Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Jan 27, 2016 in Bal Kavita, Contemplation Poems, Inspirational Poems, Old Classic Poems | 0 comments

परशुराम की प्रतीक्षा – रामधारी सिंह दिनकर

परशुराम की प्रतीक्षा – रामधारी सिंह दिनकर

Introduction: See more

A just society does not occur spontaneously. It has to be nurtured and protected with valor. Here is a poem so characteristic of Ramdhari Singh Dinkar. Compare with his other works like “Shakti Aur Kshma”, “Vijayi Ki Sadrish Jiyo Re” and Rashmirathi in this collection. Before the contemporary poem evolved as an expression of self, there were poets like Dinkar who wrote poems to preach the society with lots of convictions. This style has almost vanished now. This poem is an excerpt from “Parshuram Ki Pratiksha” Rajiv Krishna Saxena

परशुराम की प्रतीक्षा (शक्ति और कर्तव्य)

वीरता जहां पर नहीं‚ पुण्य का क्षय है‚
वीरता जहां पर नहीं‚ स्वार्थ की जय है।

तलवार पुण्य की सखी‚ धर्मपालक है‚
लालच पर अंकुश कठिन‚ लोभ–सालक है।
असि छोड़‚ भीरु बन जहां धर्म सोता है‚
पातक प्रचंडतम वहीं प्रगट होता है।

तलवारें सोतीं जहां बंद म्यानों में‚
किस्मतें वहां सड़ती हैं तहखानों में।
बलिवेदी पर बालियें–नथें चढ़ती हैं‚
सोने की ईंटें‚ मगर‚ नहीं कढ़ती हैं।

पूछो कुबेर से कब सुवर्ण वे देंगे?
यदि आज नहीं तो सुयश और कब लेंगे?
तूफान उठेगा‚ प्रलय बाण छूटेगा‚
है जहां स्वर्ण‚ बम वहीं‚ स्यात्‚ फूटेगा।

जो करें‚ किंतु‚ कंचन यह नहीं बचेगा‚
शायद‚ सुवर्ण पर ही संहार मचेगा।
हम पर अपने पापों का बोझ न डालें‚
कह दो सब से‚ अपना दायित्व संभालें।

कह दो प्रपंचकारी‚ कपटी‚ जाली से‚
आलसी‚ अकर्मठ‚ काहिल‚ हड़ताली से‚
सी लें जबान‚ चुपचाप काम पर जायें‚
हम यहां रक्त‚ वे घर पर स्वेद बहायें।

हम दे दें उस को विजय‚ हमें तुम बल दो‚
दो शस्त्र और अपना संकल्प अटल दो।
हों खड़े लोग कटिबद्ध वहां यदि घर में‚
है कौन हमें जीते जो यहां समर में?

∼ रामधारी सिंह ‘दिनकर’

 
Classic View Home

9,994 total views, 10 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *