Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Nov 30, 2015 in Contemplation Poems | 0 comments

खेल – निदा फ़ाज़ली

खेल – निदा फ़ाज़ली

Introduction: See more

Irrespective of our races and religions, we all arise from mother earth and dissolve into her. Who arises from the dissolved ingredients of who, no one can say. Here is a wonderful poem saying just that. External attributes that we wear in our life are artificial where in fact we all are the same. Rajiv Krishna Saxena

आओ
कहीं से थोड़ी–सी मिट्टी लाएँ
मिट्टी को बादल में गूँधे
चाक चलाएँ
नए–नए आकार बनाएँ

किसी के सर पे चुटिया रख दें
माथे ऊपर तिलक सजाएँ…
किसी के छोटे से चेहरे पर
मोटी सी दाढ़ी फैलाएँ

कुछ दिन इन से दिल बहलाएँ
और यह जब मैले हो जाएँ
दाढ़ी चोटी तिलक सभी को
तोड़–फोड़ के गड–मड कर दें
मिली–जुली यह मिट्टी फिर से
अलग अलग साँचों में भर दें

– चाक चलाएँ
नए–नए आकार बनाएँ
दाढ़ी में चोटी लहराए
चोटी में दाढ़ी छुप जाए
किसमें कितना कौन छिपा है
कौन बताए?

∼ निदा फ़ाज़ली

Classic View Home

845 total views, 3 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *