Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Dec 22, 2015 in Contemplation Poems, Life And Time Poems | 0 comments

जल – किशन सरोज

जल – किशन सरोज

Introduction: See more

Water is water but how different messages it gives under different conditions… Rajiv Krishna Saxena

नींद सुख की फिर हमे सोने न देगा
यह तुम्हारे नैन में तिरता हुआ जल।

छू लिये भीगे कमल, भीगी ऋचाएँ
मन हुए गीले, बहीं गीली हवाएँ।
बहुत संभव है डुबो दे सृष्टि सारी,
दृष्टि के आकाश में घिरता हुआ जल।

हिमशिखर, सागर, नदी, झीलें, सरोवर,
ओस, आँसू, मेघ, मधु, श्रम, बिंदु, निर्झर,
रूप धर अनगिन कथा कहता दुखों की
जोगियों सा घूमता फिरता हुआ जल।

लाख बाँहों में कसें अब यह शिलाएँ,
लाख आमंत्रित करें गिरी कंदराएँ।
अब समंदर तक पहुँचकर ही रुकेगा,
पर्वतों से टूटकर गिरता हुआ जल।

∼ किशन सरोज

 
Classic View  Home

544 total views, 3 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *