Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Mar 5, 2016 in Contemplation Poems, Frustration Poems, Life And Time Poems | 0 comments

हो गई है पीर पर्वत सी – दुष्यंत कुमार

हो गई है पीर पर्वत सी – दुष्यंत कुमार

Introduction: See more

Frustrations in life keep accumulating. We all feel that system should change but are not sure how. Here is a popular poem of Dushyant Kumar Ji on this theme. – Rajiv Krishna Saxena

हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चहिए‚
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिये।

आज यह दीवार‚ परदों की तरह हिलने लगी‚
शर्त लेकिन थी कि यह बुनियाद हिलनी चाहिए।

हर सड़क पर‚ हर गली में‚ हर नगर‚ हर गांव में‚
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए।

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं‚
मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही‚
हो कहीं भी आग लेकिन आग जलनी चाहिए।

~ दुष्यंत कुमार

 

Classic View Home

999 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *