Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 9, 2016 in Contemplation Poems, Inspirational Poems, Life And Time Poems | 0 comments

एक आशीर्वाद – दुष्यंत कुमार

एक आशीर्वाद – दुष्यंत कुमार

Introduction: See more

There is some thing very moving about this poem. Older generation gently exhorting and blessing the child who is learning to walk – Rajiv Krishna Saxena

जा तेरे स्वप्न बड़े हों।

भावना की गोद से उतर कर
जल्द पृथ्वी पर चलना सीखें।

चाँद तारों सी अप्राप्य ऊचाँइयों के लिये
रूठना मचलना सीखें।

हँसें
मुस्कुराऐं
गाऐं।
हर दीये की रोशनी देखकर ललचायें
उँगली जलायें।

अपने पाँव पर खड़े हों।
जा तेरे स्वप्न बड़े हों।

∼ दुष्यंत कुमार

 
Classic View Home

924 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *