Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Apr 24, 2017 in Bal Kavita | 0 comments

मैं तो वही खिलौना लूँगा – सियारामशरण गुप्त

मैं तो वही खिलौना लूँगा – सियारामशरण गुप्त

Introduction: See more

Children do not care about the cost of their toy. If they like a toy, they would like to play with it leaving behind much more expensive ones. Here is a famous poem of Shri Siyaram Saran Gupta that gives this message. Poor Deena’s child is enticed with the golden doll that the child-prince is playing with, but the Prince is enticed with the cheap clay doll that Deena’s child has. I have made the illustration myself. Rajiv Krishna Saxena

‘मैं तो वही खिलौना लूँगा’
मचल गया दीना का लाल
खेल रहा था जिसको लेकर
राजकुमार उछाल–उछाल।

व्यथित हो उठी माँ बेचारी –
था सुवर्ण – निर्मित वह तो!
‘खेल इसी से लाल, – नहीं है
राजा के घर भी यह तो!’

‘राजा के घर! नहीं नहीं माँ
तू मुझको बहकाती है,
इस मिट्टी से खेलेगा क्यों
राजपुत्र, तू ही कह तो?’

फेंक दिया मिट्टी में उसने
मिट्टी का गुड्डा तत्काल
‘मैं तो वही खिलौना लूँगा’ –
मचल गया दीना का लाल

‘मैं तो वही खिलौना लूँगा’
मचल गया शिशु राजकुमार, –
वह बालक पुचकार रहा था
पथ में जिसको बारंबार

‘वह तो मिट्टी का ही होगा,
खेलो तुम तो सोने से’
दौड़ पड़े सब दास – दासियाँ
राजपुत्र के रोने से।

मिट्टी का हो या सोने का,
इनमें वैसा एक नहीं
खेल रहा था उछल–उछल कर
वह तो उसी खिलौने से।

राजहठी ने फेंक दिए सब
अपने रजत – हेम – उपहार,
‘लूँगा वही, वही लूँगा मैं!‘
मचल गया वह राजकुमार।

~ सियारामशरण गुप्त

 
Classic View Home

212 total views, 5 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *