Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on May 27, 2016 in Bal Kavita | 0 comments

गड़बड़ झाला – देवेंन्द्र कुमार

गड़बड़ झाला – देवेंन्द्र कुमार

Introduction: See more

What if things take characters totally unbecoming of them? Chaos indeed! I have made the illustration myself. Rajiv Krishna Saxena

आसमान को हरा बना दें
धरती नीली, पेड़ बैंगनी
गाड़ी ऊपर, नीचे लाला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

कोयल के सुर मेंढक बोले
उल्लू दिन में आँखों खोले
सागर मीठा, चंदा काला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

दादा माँगें दाँत हमारे
रसगुल्ले हों खूब करारे
चाबी अंदर, बाहर ताला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

चिड़िया तैरे, मछली चलती
आग वहाँ पानी में जलती
बरफी में है गरम मसाला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

दूध गिरे बादल से भाई
तालाबों में पड़ी मलाई
मक्खी बुनती मकड़ी जाला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

~ देवेंन्द्र कुमार

 
Classic View Home

2,021 total views, 2 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *