Pages Menu
TwitterRssFacebook
Categories Menu

Posted on Feb 24, 2016 in Bal Kavita, Old Classic Poems, Story Telling Poems | 0 comments

चांद का कुर्ता – रामधारी सिंह दिनकर

चांद का कुर्ता – रामधारी सिंह दिनकर

Introduction: See more

Little moon feels so cold in night. He asks his mother for a woolen coat. See the problem that the mother faces! I have tried my hands on illustrating this poem and hope that you like it. – Rajiv Krishna Saxena

हठ कर बैठा चांद एक दिन माता से यह बोला
सिलवा दो मां मुझे ऊन का मोटा एक झिंगोला

सन सन चलती हवा रात भर जाड़े में मरता हूं
ठिठुर ठिठुर कर किसी तरह यात्रा पूरी करता हूं

आसमान का सफर और यह मौसम है जाड़े का
न हो अगर तो ला दो मुझको कुर्ता ही भाड़े का

बच्चे की सुन बात कहा माता ने अरे सलोने
कुशल करे भगवान लगे मत तुझको जादू टोने

जाड़े की तो बात ठीक है पर मैं तो डरती हूं
एक नाप में कभी नहीं तुझको देखा करती हूं

कभी एक अंगुल भर चौड़ा कभी एक फुट मोटा
बड़ा किसी दिन हो जाता है और किसी दिन छोटा

घटता बढ़ता रोज किसी दिन ऐसा भी करता है
नहीं किसी की भी आंखों को दिखलाई पड़ता है

अब तू ही यह बता नाप तेरा किस रोज लिवायें?
सी दें एक झिंगोला जो हर रोज बदन में आये?

∼ रामधारी सिंह ‘दिनकर’

 
Classic View Home

4,434 total views, 1 views today

Post a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *